Friday , January 18 2019
Breaking News
Home / कारोबार / कारोबारियों के GST देनदारी में दिखा अंतर, विश्लेषण में सामने आए चौकाने वाले आंकड़ें

कारोबारियों के GST देनदारी में दिखा अंतर, विश्लेषण में सामने आए चौकाने वाले आंकड़ें

आशंका है कि जीएसटी का भुगतान करते समय बहुत से व्यापारियों ने अपनी टैक्स देनदारी कम दिखाई।

नई दिल्ली। क्या जीएसटी का भुगतान करते समय व्यापारी अपनी टैक्स देनदारी कम दिखा रहे हैं? जीएसटी संग्रह अपेक्षानुरूप न रहने की वजह से खजाना भरने के लिए मशक्कत कर रहे देश के आला टैक्स अधिकारियों के मन में यह सवाल कौंध रहा है। केंद्र सरकार के अधिकारियों ने जीएसटी के शुरुआती सात महीनों के रिटर्न का विश्लेषण किया है, जिससे पता चला है कि बड़े व्यवसायियों और व्यापारियों ने जीएसटीआर-1 व जीएसटीआर-3बी में जो देनदारी दिखाई है, उसमें 34,000 करोड़ रुपये का अंतर है।

सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) और जीएसटीएन को विश्लेषण में चौंकाने वाले तथ्य मिले हैं। वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में शनिवार को हुई जीएसटी काउंसिल की 26वीं बैठक में इन तथ्यों को पेश किया गया। दरअसल जीएसटी में पंजीकृत व्यवसायियों और व्यापारियों को जीएसटी भुगतान करते समय फार्म जीएसटीआर-3बी भरना होता है जबकि फार्म जीएसटीआर-1 में उन्हें अपनी बिक्री का ब्योरा देना होता है। आशंका है कि जीएसटी का भुगतान करते समय बहुत से व्यापारियों ने अपनी टैक्स देनदारी कम दिखाई।

हालांकि व्यापारियों से रिटर्न भरते समय त्रुटि के कारण भी ऐसा हो सकता है, क्योंकि जीएसटीआर-3बी पहले जमा किया गया है जबकि जीएसटीआर-1 बाद में भरा गया है। जीएसटीआर-1 में दिए गए बिक्री के ब्योरे का मिलान जीएसटीआर-2 में दिए गए खरीद के ब्योरे से होता है।

टैक्स अधिकारियों ने जुलाई से दिसंबर तक सात महीनों में 51.96 लाख व्यापारियों के जीएसटीआर-3बी और जीएसटीआर-1 फार्म में बताई गई जीएसटी देनदारी के आधार पर यह अंतर पाया है। जीएसटी देनदारी में यह अंतर अब टैक्स अधिकारियों के लिए पहेली बना हुआ है। उन्होंने अब यह विश्लेषण राज्यों के साथ साझा किया है। केंद्र और राज्यों के अधिकारी इस विश्लेषण के आधार पर कर चोरी के इरादे से जीएसटी की देनदारी कम बताने वाले व्यापारियों के खिलाफ कदम उठा सकते हैं।

About AAJ REPORTER

Check Also

आईटीआरः मोबाइल एप के अलावा इन बैंकों, टैक्स वेबसाइट्स से मुफ्त में फाइल होगा रिटर्न

आयकर विभाग ने इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की अंतिम तारीख को एक महीने आगे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by moviekillers.com